Monday, December 6, 2010

सौंदर्यशास्त्र

कुछ चेहरों को सामने से नहीं
बगल से देखो
कुछ के नज़दीक मत जाओ
उन्हें दूर से देखो
कुछ चेहरों को देखो सिर्फ़
'डिजीटल डिवाइसेज़'(अंकीय उपकरणों) में
वह ज़्यादा सुंदर लगेगा
सौंदर्य भी बदल लेता है
अपनी उपस्थिति का अंदाज़
प्रदर्शन की भंगिमा
या
उसे मजबूर कर दिया जाता है
ऐसा होने को
'वर्चुअल रिअलिटी' (अवास्तविक यथार्थ) द्वारा !!!

Sunday, August 29, 2010

संगति और संगीत

हमारी संगति में
संगीत बना रहे।

चुनमुन चिड़ैये का
वह छोटा सा घोंसला
कितना अच्छा हो कि
सजा रहे
पेड़ सुखने के बाद भी
और भला
पेड़ भी सूखे क्यों?
जब हम उसे पानी से नहीं
अमृत से सींचते हैं
अमृत वह विश्वास है
जिसे हमने हासिल किया है
रोज़मर्रा के सुख दुख में
इस तरह की ज़रूरत नहीं पड़ती कभी
“सॉरी” या “थैंक्स” के
बनावटी मकड़जाल की।

तुम मेरी नज़र में
उस पेड़ की तरह हो
जिसके पत्तों में खूब हरापन है
जिसके फूलों में रंगत है खूशबू है
और फल की संभावना भी
जिसने कस के जकड़ लिया है
उस ज़मीन को
जिसमें उसकी जड़ें फैली है
और सबसे बढ़कर
जिसके पास एक मुकम्मल
मजबूत तना है
जो उसका अपना है।