Thursday, April 30, 2009

मिथ्या आस्थाओं का सहारा


जीवन को पारिभाषित करने की असंख्य कोशिशों का
जो भी परिणाम हो
मैं जीवन के कसरत की चारदीवारी में कैद
अपने विवशता की गिड़गिड़ाहट को
पशु होने से बचाने के प्रयत्न में
नश्वर जगत के
मिथ्या आस्थाओं का सहारा लेता हूँ।

मैं संबंधों के कशमकश में
भावनाओं की भूमिका को
इन सहारों के सहारे
तिरस्कृत करता हूँ।

मैं गति, परिवर्तन और विकास की
द्वन्द्वात्मक वैचारिक संकल्पना को
इन्हीं सहारों के दम पर दरकिनार कर
इतराने के छद्म का
प्रदर्शन करता हूँ।
मैं "मैं" हूँ
एकमात्र "मैं"...!

No comments: